Wednesday, 21 December 2016

न बोल पाए तुमसे

न बोल  पाए  तुमसे
न  ही  अपने  मैं  दबा  सके ,

आज  मेरे  प्यार  के  टुकड़े
अश्को  में  कतरा  कतरा  बह  गए ,

न  पहुच  पाए  तुम  तक
न  ही  मेरे  पास  लौट  पाए
आज  दिल  के  निशान
नदीं  की  रेत  पे  रह  गए ,