Wednesday, 21 December 2016

न बोल पाए तुमसे

न बोल  पाए  तुमसे
न  ही  अपने  मैं  दबा  सके ,

आज  मेरे  प्यार  के  टुकड़े
अश्को  में  कतरा  कतरा  बह  गए ,

न  पहुच  पाए  तुम  तक
न  ही  मेरे  पास  लौट  पाए
आज  दिल  के  निशान
नदीं  की  रेत  पे  रह  गए ,




न बोल  पाए  तुमसे
न  ही  अपने  मैं  दबा  सके ,

आज  मेरे  प्यार  के  टुकड़े
अश्को  में  कतरा  कतरा  बह  गए ,


न  बेचैन  नींदों  से कह  पाए
खुद  के  टूटने  का  दर्द ,
 ये  सपने  खुद  ही  सह  गए

न  पहुच  पाए  ये  तुम  तक
न  आ  पाए  वापस
ये  लफ्ज़  ख़ामोशी  में  ही  खो  गए,

न बोल  पाए  तुमसे
न  ही  अपने  मैं  दबा  सके ,

आज  मेरे  प्यार  के  टुकड़े
अश्को  में  कतरा  कतरा  बह  गए ,

हम  तब  भी  बेगाने  थे
आज  भी  खुद  से  बेगाने  ही  रह  गए
हम  तब  बहते  बादल  थे
आज  भी  हम, एक  खुशगवार  झोंका बनके रह  गए,

न बोल  पाए  तुमसे
न  ही  अपने  मैं  दबा  सके ,

आज  मेरे  प्यार  के  टुकड़े
अश्को  में  कतरा  कतरा  बह  गए


© Abhishek Shukla, The Voice of Heart:न बोल  पाए  तुमसे 
Post a Comment